Saturday, December 9, 2023
HomePoetryFather's Day (पिता को समर्पित कविता)

Father’s Day (पिता को समर्पित कविता)

01 poem dedicated to father on Father’s day

परिवार रूपी बगिया के माली,
करने वाले बगीचे की रखवाली।
बागबान रूपी वो पिता हैं।।

भरी दोपहरी में भी कमाने वाले,
दो वक्त की रोटी खिलाने वाले।
किसान रूपी वो पिता हैं।।

खेल खिलौने दिलाने वाले,
चेहरों पे मुस्कान लाने वाले।
इंसान रूपी वो पिता हैं।।

कापी क़िताब दिलाने वाले,
ज्ञान की दीप जलाने वाले।
गुणवान रूपी वो पिता हैं।।

अपनी ख्वाहिशों को समेटकर,
हर जरूरतों को पूरी करने वाले।
आसमान रूपी वो पिता हैं।

अपना सर्वस्व न्यौछावर कर,
परिवार की खुशियां संजोने वाले।
भगवान रूपी वो पिता हैं।।

-दिगम्बर

For more poetry follow: Click here

First Friend
First Friendhttp://firstfriendsolution.com
With more than 05 years of experience on the web, IT field she will be able to help you learn everything about day today life on First Friend Solution.
RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

Leave a Reply

Most Popular

Recent Comments

Narayan Prasad on DIY (DO IT YOURSELF)